Home Blog
हिंदी से प्यार हल्द्वानी के मनीष पांडे को दिया रोजगार, युवाओं को भाया ये आइडिया
शहर हल्द्वानी सांस्कृतिक एवं साहित्यिक केंद्र के रूप में विकसित हो रहा है। यहां निरंतर रूप से कई रचनात्मक गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं। शहर के युवा आज साहित्य जगत, पत्रकारिता जगत, फ़िल्म इंडस्ट्री तक में अपना नाम कर रहे हैं। एक ऐसा ही नाम है मनीष पांडेय " आशिक़...
लॉकडाउन में नौकरी छूटी लेकिन स्टार्टअप के रास्ते ने नैनीताल के दो भाइयों को दे दी पहचान
कोरोना काल में नौकरी जाने की.... आर्थिक हालात खराब होने की... और मुसीबत की बात ज्यादा हो रही है। कोरोना महामारी पूरे विश्व के लिए एक चुनौती है लेकिन हमें उसका मुकाबला करना होगा। इस मुश्किल घड़ी में दूसरे राज्यों से लोग अपने घर पहुंचे.. कहने को इस बात को 6-7...
स्टार्टअप की दिशा में आगे बढ़ रहा है उत्तराखंड,एस्पायरिंग श्रेणी में मिली जगह
स्टार्टअप की दिशा में उत्तराखंड बेहतर हो रहा है। यह हम नहीं सरकारी आंकड़े बोल रहे हैं। इस बार राज्य की स्टार्ट अप रैंकिंग में सुधार देखने को मिला है। उत्तराखंड इमर्जिंग (उभरते) श्रेणी से एस्पायरिंग (आकांक्षी) श्रेणी में आ गया है। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने वर्ष 2019...
अल्मोड़ा के ऋषि,पर्यटन के लिए छोड़ा IIT और IIM से मिला लाखों का पैकेज
अपनी भूमि के लिए कोई लाखों रुपयों को छोड़ दे तो कहानी उत्साहित करती है। ये कहानी है उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में जन्मे ऋषि सनवाल की... जिन्होंने पहाड़ से प्यार के लिए अपनी लाखों की नौकरी छोड़ दी। वह नौकरी छोड़ दी जिसके लिए बचपन से पढ़ाई कर रहे थे।...
उत्तराखंड की दो मम्मियां, तीन साल पहले शुरू किया स्टार्टअप, आज टर्नओवर तीन करोड़
सपनों की कोई उम्र नहीं होती है। महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने एक बार कहा था, उन्हें अपना सपना पूरा करने के लिए 22 साल का इंतजार करना पड़ा। विश्वकप जीतने के लिए उन्होंने क्रिकेट खेलना शुरू किया था और खिताब को हासिल करने में 22 साल लगे। इंसान को उम्मीद...
हल्द्वानी के प्रदीप और अशोक, लॉकडाउन ने काम छिना फिर पहाड़ जाकर लिखी कामयाबी की स्क्रिप्ट
हल्द्वानी:कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन लागू हुआ। पूरा देश एक तरह से बंद हो गया । सैंकड़ों लोगों की नौकरी चले गई। कई लोगों का काम बंद हो गया। इस बीच कई आत्महत्या के मामले भी सामने आए। कुछ लोगों ने लॉकडाउन का वक्त अपने ऊपर खर्च किया और आज...
दूसरे राज्यों को लग गया पहाड़ का स्वाद, पूरे उत्तराखंड में उदाहरण बन गया टिहरी का लड़का
कोरोना वायरस के चलते सरकार ने देश में लॉकडाउन लगाया। दूसरे राज्यों से लोगों को अपने घर पहुंचाया गया। इस दौरान कई लोगों की नौकरी भी छूट गई। रोजगार वापस मिलने का डर तो हमेशा ही रहता था, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी थे जिन्हें अपना भविष्य अपने तरीके से लिखना...
पहाड़ का मडुवा बना ग्रामीणों के रोजगार का साथी, लोकल फॉर वोकल का सपना सच होगा
चमोली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत लोकल फॉर वोकल के संदेश को साकार कर रहे हैं आजीविका संघ, डीएम ने आजीविका संघ से जुड़े महिला समूहों के प्रयासों की सराहना की। जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने एकीकृत आजीविका सहयोग परियोजना के तहत विकासखंड थराली में गठित नंदादेवी और गौरादेवी आजीविका...
पिथौरागढ़: राज्य पहले से ज्यादा स्मार्ट होने की तरफ बढ़ रहा है। पलायन कर चुके लोग वापस लौट रहे हैं और स्वरोजगार करने पर जोर दे रहे हैं। इसके लिए वह पढ़ाई भी कर रहे हैं जिससे की उन्हें ज्ञान मिल सके की किस तरीके का काम उनके लिए बेहतर होगा।...
देहरादून: बुधवार को उत्तराखंड में 1069 कोरोना वायरस के मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही राज्य में कोरोना वायरस के आंकड़े 43720 हो गया है जिसमें से 31123 मरीजों ने कोरोना वायरस को हराया है। बुधवार को 1016 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। इसके अलावा 17 मरीजों की मौत भी...