उत्तराखंड में बॉर्डर फिलहाल नहीं खुलेंगे, सीएम त्रिवेंद्र रावत का बयान पढ़िए

1789
Share Now

उत्तराखंड में बॉर्डर अभी फिलहाल नहीं खुलेंगे, सीएम त्रिवेंद्र रावत का बयान सुनिए

उत्तराखंड में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और सरकार इसे जानती है। कुछ दिन से एक पत्र की बात पूरे राज्य में हो रही है। यह पत्र गृह मंत्रालय के सचिव का है। जिसमें उन्होंने राज्यों से कहा कि वह किसी तरह के पास सिस्टम और दूसरे राज्यों के लोगों की एंट्री को ना रोके। उत्तराखंड में एक दिन में बिना कोरोना वायरस टेस्ट के केवल 2000 लोगों को ही एंट्री मिल रही है।

यह पत्र उत्तराखंड सरकार के पास भी पहुंचा है और कहा जा रहा था कि जल्द नई गाइडलाइन होगी लेकिन ऐसा नहीं होने वाला है। इस मामले में सीएम त्रिवेंद्र रावत काफी गंभीर हैं। उन्होंने कहा कि पत्र का अध्ययन किया जाएगा और उसके बाद सरकार कोई फैसला लेगी। इस बारे में राज्य सरकार ने केंद्र से परामर्श लेने का निर्णय किया है। परामर्श मिलने के बाद प्रदेश में प्रतिदिन 2000 लोगों को प्रवेश की अनुमति देने की व्यवस्था बदलने पर विचार होगा। सीएम के बयान के बाद ये साफ है कि राज्य में आवाजाही पर प्रतिबंध हटाने का फैसला सरकार हालातों को देखते हुए लेगी और ये भी हो सकता है कि यह नियम लागू रहे।

गृहमंत्रालय के पत्र में कहा गया था कि पांबदी के चलते लोगों को परेशानी हो रही है। उन्हें आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में सभी राज्य सरकार अनलॉक-3 की गाइडलाइन को संसोधन कर पांबदी को खत्म करें। यह पत्र जैसे ही सोशल मीडिया पर वायरल हुआ कई लोगों ने राहत की सांस ली लेकिन सीएम का नया बयान साफ कहता है कि वह फैसला कोरोना वायरस को मामलों को देखते हुए ही लेंगे। उत्तराखंड में कोरोना वायरस के मामले 16 हजार के पास है और अगर बॉर्डर खोल दिए जाते हैं तो यह नंबर और बढ़ेगा यानी खतरा और बढ़ेगा।

सोमवार को उत्तराखंड में 412 कोरोना वायरस के मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही राज्य में कोरोना वायरस के आंकड़े 15529 हो गया है जिसमें से 10912 मरीजों ने कोरोना वायरस को हराया है। सोमवार को 432 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। इसके अलावा 7 मरीजों की मौत भी हुई है। 3 ऋषिकेश एम्स, एक देहरादून और तीन सुशीला तिवारी हल्द्वानी से सामने आया है।


Share Now