पहाड़ का वो युवा राजनेता जिसने 2020 दिल्ली चुनाव में AAP सरकार की चूलें हिला दीं!

1678
Share Now

2020 दिल्ली चुनाव में अचानक से एक नाम सबकी ज़ुबा पर चढ़ गया। वो नाम था रवि नेगी का। ये वही पहाड़ी युवा राजनेता था जिसने फैसले वाले दिन AAP सरकार की नींदे उड़ा दी थीं। हल्द्वानी निवासी इस युवा नेता रवि नेगी ने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया का गला सुखा दिया था। काउंटिंग शुरू होने से 11वें राउंड तक रवि नेगी केजरीवाल के बाद पार्टी में नंबर दो की हैसियत न रखने वाले सिसौदिया से आगे चल रहे थे। हालांकि मतगणना फाइनल होने पर उन्हें तीन हजार वोटों से हार का सामना करना पड़ा। लेकिन इस हार ने भी रवि नेगी की जीत की इबारत लिख दी। रवि नेगी अब बीजेपी जैसी पार्टी के फेवरेट युवा नेताओं की फेहरिस्त में सबसे ऊपर पहुंच चुके हैं।

रवि नेगी का पहाड़ से है सीधा नाता

20 अगस्त 1977 को दिल्ली के वेस्ट विनोद नगर में जन्मे रवि नेगी मूल रूप से ग्राम सीमदाड़मी पट्टी जैंती सालम जिला अल्मोड़ा के निवासी है। उनके पिता प्रताप सिंह नेगी गृह मंत्रालय से सेवारत थे जो अब रिटायर हो चुके हैं। देवलचौड़ बंदोबस्ती में रहने वाले रवि के बड़े भाई हरीश नेगी कंस्ट्रक्शन कारोबार से जुड़े हैं। हरीश ने बताया कि लंबे समय तक दिल्ली में रहने के बावजूद परिवार ने पहाड़ और गांव से नाता बरकरार रखा। शादी और अन्य निमंत्रण से लेकर पूजा-पाठ में भी घर के लोग जरूर शामिल होते हैं।

रविन्द्र सिंह नेगी (रवि नेगी) का राजनीतिक सफर

साल 2000 में रवि नेगी ने दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई पूरी की।हालाकि 1999 से साल 2000 तक अखिल भारतीय परिषद से भी जुड़े रहे।साल 2007 से लेकर 2010 तक रवि नेगी मयूर विहार ज़िला में युवा मोर्चा उपाध्यक्ष रहे। इसके बाद साल 2010 से लेकर 2014 तक भारतीय जनता युवा मोर्चा (दिल्ली प्रदेश) में उपाध्यक्ष के पद की जिम्मदारी निभाई । रवि के इसी जज्बे को देखते हुए उन्हें एमसीडी के चुनाव के दौरान विनोद नगर वॉर्ड 10 ई से निगम पार्षद का उम्मीदवार बनाया लेकिन किन्ही कारणों से नामांकन रद्द हो गया। लेकिन रवि नेगी ने इस झटके उलट खुद को और मज़बूत किया और पार्टी के भरोसे के चेहरे बन गए। और उन्हें वॉर्ड 10 ई वेस्ट विनोद नगर का मंडल अध्यक्ष नियुक्त किया।यही नहीं रवि नेगी को बीजेपी ने लोकसभा चुनावों की भी ज़िम्मेदारी सौंपी गई जिसे उन्होंने बखूभी निभाया। 

रवि नेगी ने मनीष सिसोदिया की उड़ा दी नींद

बीजेपी ने रवि की मेहनत और जज्बे को देखते हुए उन्हें ने पहली बार विधानसभा का टिकट दिया था। पटपड़गंज विधानसभा क्षेत्र (Patparganj Assembly Seat) से आम आदमी पार्टी (AAP) के उम्मीदवार मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) के खिलाफ बीजेपी ने अपने भरोसेमंद युवा चेहरे रविंद्र सिंह नेगी (Ravindra Singh Negi) को उतारा। शुरुआत में बीजेपी के इस दांव को हर कोई फीका मान रहा था लेकिन जिस दिल्ली चुनाव का फैसला आया उस दिन हर किसी ने रवि नेगी की हौसले का लोहा मान लिया। फैसले वाले दिन हर राउंड के बाद कौन जीतेगा, इसका अंदाजा लगाना मुश्किल था। मुकाबला अंतिम राउंड तक जा कर फाइनल हुआ। मनीष सिसोदिया ने तीन हजार से ज्यादा मतों के अंतर से रविंद्र सिंह नेगी को हराया। नेगी को 66 हजार 261 वोट मिले तो मनीष सिसोदिया को 69 हजार 652 वोट मिले। पहले 10 राउंड की वोटिंग में बीजेपी प्रत्याशी रविंद्र सिंह नेगी ने मनीष सिसोदिया की सांसें अटकाई रखीं।पहले 10 राउंड की गिनती में मनीष सिसोदिया बीजेपी प्रत्याशी रवि से पिछड़ते रहे। लेकिन हार के बावजूद रवि नेगी ने बीजेपी में अपनी पैंठ और भी गहरी कर ली। आज रवि नेगी को प्रधानमंत्री मोदी का साथ हासिल है। और वो आगे की रणनीति के लिए अभी से जुट चुके हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं रवि नेगी

पटपड़गंज विधानसभा क्षेत्र के अंतगर्त चार वॉर्ड आते हैं। यह विधानसभा सीट पूर्वी दिल्ली संसदीय क्षेत्र के अंतगर्त आता है। इस विधानसभा में मंडावली, विनोद नगर, मयूर विहार फेज 2 और पटपड़गंज एरिया आते हैं। पटपड़गंज विधानसभा क्षेत्र में लगभग 16 अवैध कॉलोनियां और तीन गांव आते हैं। पटपड़गंज, मंडावली और खिचड़ीपुर गांव इस इलाके में एक अलग पहचान रखते हैं। इस विधानसभा में 50 से अधिक ग्रुप हाउसिंग सोसायटीज, कुछ स्लम एरिया और कुछ पुनर्वास कॉलोनियां हैं।क्षेत्रवासी रवि नेगी को अपने सुख-दुख में अपने साथ खड़ा पाते हैं। यही वजह है कि रवि इतने बड़े क्षेत्र में अपनी मेहनत से लोगों का भरोसा हासिल कर चुके हैं।

रवि समाज के लिए दिल खोल कर खड़े हैं। उनकी संस्था मातृ रक्षा फाउंडेशन, गौ ग्रास सेवा ( पहली रोटी है गाय के लिए), के लिए दिन रात काम करती है।यही वजह है कि विनोद नगर क्षेत्र में आए दिन वो लोगों के बीच उनकी समस्याएं सुनते मिल जाएंगे। नालियां साफ करते मिल जाएंगे।कोरोना जैसी बीमारी के दौरान रवि ने अपने क्षेत्र और बाहरी इलाकों में भी किसी को भूखा सोने नहीं दिया। हमेशा सेवाभाव से ओतप्रोत रहने वाले रवि बच्चों से लेकर बुर्ज़ुगों के दिलों तक अपनी छाप छोड़ चुके हैं। एक नेता के तौर पर रवि वो जनाधार हासिल कर चुके हैं जिसकी राजनीति में हर किसी को दरकार होती है और ये जनाधार रवि ने अपनी मेहनत से कमाया है। रवि अब विनोद नगर या फिर पटपड़गंज विधानसभा क्षेत्र के चर्चित चेहरे नहीं रह गए वो भारतीय जनता पार्टी के पसंदीदा युवा चेहरों में से एक है।

इतना सब कुछ हासिल करने के बाद भी रवि बेहद सौम्य और सरल व्यक्तित्व रखते हैं। उनकी इस सफलता के पीछे उनकी अथाह मेहनत और लोगों का विश्वास ही है। रवि की मेहनत ये भरोसा दिलाती है कि वो दिल्ली ही नहीं बल्कि देश की राजनीति में भी अपना सिक्का ज़रुर जमाएंगे और अपने पहाड़ का नाम रौशन ज़रूर करेंगे।


Share Now