दारोगा मां को एक्सीडेंट में खो चुकी स्नेहा बनी मिसाल, कोरोना मरीज़ों के लिए तोड़ दी गुल्लक

340
Share Now

बच्चों का मन जितना चंचल होता है उतना ही कोमल भी। एक्सीडेंट में अपनी दारोगा मां को खो चुकी 6 साल की बच्ची एक मिसाल बनकर सामने आई है। स्नेहा नाम की इस बच्ची ने वैश्विक बीमारी कोरोना के मरीज़ों के लिए अपनी सेविंग्स उनके नाम कर दी। वैसे तो उत्तराखंड में कोरोनावायरस से जंग लड़ने के लिए हर कोई अपने स्तर से सहयोग करने में जुटा है, लेकिन ये कहानी उन सबसे जुदा है। इसी कड़ी में लालकुआ से दिल को छू जाने वाली खबर सामने आई है, जहां कुछ महीने पहले सड़क हादसे में अपनी मां को खो चुकी स्नेहा ने कोरोना वॉरियर्स बनकर पीएम रिलीफ फंड में मदद की है।

स्नेहा ने जीता हर किसी का दिल

क्लास 2 की छात्रा स्नेहा की स्वर्गीय मां माया बिष्ट लालकुआ कोतवाली में महिला दरोगा के पद पर पोस्टेड थीं। लेकिन होनी को कुछ और ही मंज़ूर था, कुछ महीने पहले राज्यपाल ड्यूटी जाने के दौरान दुखद सड़क हादसे में सब इंस्पेक्टर माया अपनी लाडली स्नेहा को अकेला छोड़ कर चली गई। महिला दारोगा माया बिष्ट कई दिनों तक जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ती रही और आखिरकार दम तोड़ दिया। उनके साथ दो  पुलिसकर्मियों की भी मौत हुई थी।

मां के चले जाने के बाद स्नेहा ने न सिर्फ खुद को संभाला बल्कि देश में इस विपत्ति के समय अपने मां के पद चिन्हों पर चलते हुए इस छोटी उम्र में सामाजिक भूमिका निभाने का जज्बा कायम किया।

स्नेहा का कहना है कि ”कोरोना वायरस जल्द ही खत्म हो जाएगा। मैं भगवान से रोज प्रार्थना भी करती हूं। इस मुश्किल में हर किसी को मदद करनी चाहिए।”

स्नेहा के पिता सुरेश सिंह बिष्ट ईएसआई अस्पताल में कार्यरत हैं अपने पिता के साथ लालकुआं के वार्ड नंबर 2 में रहने वाली स्नेहा ने इस साल कि अपनी गुल्लक में बचाई हुई सारी सेविंग अपनी मां की याद में पीएम रिलीफ फंड में दी है।

स्नेहा के पिता सुरेश सिंह बिष्ट ने बताया कि ”स्नेहा ने 51 सौ रुपये बचाकर प्रधानमंत्री रिलीफ फंड में जमा कराए हैं।”

वाकई स्नेहा की उम्र जितनी छोटी है तो उनका दिल बहुत बड़ा है। इस छोटी सी उम्र में ही स्नेहा ने वो काम कर दिखाया है जिससे वो कई लोगों के लिए एक मिसाल बन गई हैं। कोरोना के मरीज़ों को विपदा से निकालने के स्नेहा ने अपनी जमा पूंजी को दान कर ये संदेश दिया है कि मानवता ही सबसे बड़ा धर्म है। इस नन्हीं सी बच्ची को हमारा सलाम।‌

। 


Share Now