स्टार्टअप की दिशा में आगे बढ़ रहा है उत्तराखंड,एस्पायरिंग श्रेणी में मिली जगह

20
Share Now

स्टार्टअप की दिशा में उत्तराखंड बेहतर हो रहा है। यह हम नहीं सरकारी आंकड़े बोल रहे हैं। इस बार राज्य की स्टार्ट अप रैंकिंग में सुधार देखने को मिला है। उत्तराखंड इमर्जिंग (उभरते) श्रेणी से एस्पायरिंग (आकांक्षी) श्रेणी में आ गया है। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने वर्ष 2019 की स्टार्ट अप रैंकिंग जारी की है। उत्तराखंड को 9वां स्थान प्राप्त हुआ है। उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश भी राज्य से पीछे हैं। स्टार्ट अप रैंकिंग में उत्तराखंड से आगे आठ राज्य हैं। टॉप परफॉर्मिंग श्रेणी में कर्नाटक व केरल और बेस्ट परफार्मिंग श्रेणी में गुजरात व केंद्र शासित राज्य अंडमान निकोबार शामिल है।

 वर्ष 2019 की रैंकिंग में उत्तराखंड ने एस्पायरिंग (आकांक्षी) श्रेणी में स्थान प्राप्त किया है। इस श्रेणी में उत्तराखंड, हरियाणा, झारखंड, नागालैंड, पंजाब, तेलंगाना शामिल हैं। वर्ष 2018 की रैंकिंग में उत्तराखंड का स्थान इमर्जिंग (उभरते) श्रेणी में था। जो रैंकिंग की सबसे निचली श्रेणी थी। प्रदेश सरकार की ओर से स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए नए उद्यमियों को कई तरह की सहूलियतें दी जा रही है। इससे उत्तराखंड ने राष्ट्रीय स्तर पर स्टार्ट अप रैंकिंग में सुधार किया है। उत्तराखंड से आगे आठ राज्य हैं।

राज्य में 350 स्टार्ट अप काम रहे हैं। इसमें केंद्र से 280 और प्रदेश सरकार ने 70 स्टार्ट अप मान्यता प्राप्त हैं। इन स्टार्ट अप को सरकार की ओर से नए उद्योग लगाने में स्टार्ट अप नीति के तहत कई सुविधाएं मिली हैं। निदेशक उद्योग सुधीर चंद्र नौटियाल कहते हैं कि प्रदेश में स्टार्ट अप को बढ़ावा देने के लिए सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है।  इसका ही नतीजा है कि राज्य को एक श्रेणी की बढ़त मिली है। अगर इसी तरह काम आगे बढ़ता रहा है।

  • ,


Share Now